हिंदी शोध संसार

मंगलवार, 16 मार्च 2010

मित्र की कसौटी

पापा निवारयति योज्यते हिताय

गुह्यं निगुह्यति च गुणानिम् प्रकटम करोति

आपद गतं न च जहाति ददाति काले

सन्नमित्र लक्ष्णंमिदं प्रवदन्ति संत:।

अर्थ- पापा से बचाता है, हित के काम में लगाता है, छुपाने योग्य बात छुपाता है, गुण प्रकट करता है, विपत्ति के समय साथ नहीं छोड़ता है, बल्कि, तन-मन-धन से मदद करता है, संतो ने अच्छे मित्रों से यही लक्षण बताएं हैं.

गोस्वामी तुलसीदास ने कहा-
निज दुख गिरि सम रज करि जाना।
मित्र के दुख रज मेरू समाना।।




जय हिंदी जय भारत

3 टिप्‍पणियां :

  1. बचपन का पाठ पचपन में याद आ गया -शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल और फिर आज, दोनों श्लोक पहले पढ़े थे. बहुत अच्छा कर रहे हैं. सुभाषितानि...

    उत्तर देंहटाएं
  3. कल और फिर आज, दोनों श्लोक पहले पढ़े थे. बहुत अच्छा कर रहे हैं. सुभाषितानि...

    उत्तर देंहटाएं