हिंदी शोध संसार

मंगलवार, 18 नवंबर 2008

फिर से लिखा जाएगा इतिहास?

अगर हालिया उत्खननों से प्राप्त तथ्यों और आदिम जनजाति के जीन के अध्ययनों से प्राप्त रिपोर्ट की माने तो इतिहास को दोबारा लिखने का वक्त आ गया है. प्राप्त तथ्य दर्शाते हैं कि आदिम मानव भारत से यूरोपीय देश गए हैं न कि यूरोप से भारत आए हैं. अध्ययनों से साफ साफ संकेत मिलते हैं कि सबसे पहला इंसान आज से 80,000 वर्ष पहले आंध्रप्रदेश के दक्षिणी भाग में रहा होगा. हैदराबाद स्थित कोशिकीय और आण्विकीय जीवविज्ञान केंद्र यानी सीसीएमबी और कैंब्रिज विश्वविद्यालय के अध्ययनों से ये तथ्य सामने आए हैं.
इतिहासकार अब तक मानते रहे हैं प्राचीन मानव अफ्रीका से इजराइल, मध्यपूर्व, यूरोप और दक्षिण-पूर्व एशिया के रास्ते भारत आए हैं. लेकिन अंडमान-निकोबार के ओंजी जनजाति के जीन के अध्ययनों से जाहिर हुआ है कि ओंजी जनजाति दुनियां की सबसे प्राचीन जनजाति है. वहीं आंध्रप्रदेश के कूरनूल जिले में हुए उत्खनन भी साबित करते हैं कि यहां करीब 80000 साल पहले इंसानी आबादी बसती थी.
ये अध्ययन इतिहासकारों की उस मान्यता के विपरीत है जिसमें ये कहा गया है कि आर्य यूरोपीय देशों से भारत आए हैं. नये अध्ययन साबित करते हैं आर्य भारत से यूरोप गए हैं.

2 टिप्‍पणियां :

  1. jab europe aur england se yah sab publish hoga tab yahan ke log maanege.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सवाल इस बात का है कि लिखेगा कौन. अब तक इतने सारे नये तथ्य उजागर हो चुके हैं परंतु इतिहास कि पुतकों में तो वही पुरानी बातें हैं. जानकारी के लिए आभार.
    http://mallar.wordpress.com

    उत्तर देंहटाएं