हिंदी शोध संसार

सोमवार, 4 जुलाई 2011

स्वामी रामदेव और अन्ना के पीछे कुत्तों की तरह मीडिया क्यों लगा है।

चार जून की आधी रात को स्वामी रामदेव पर भ्रष्ट सरकार के निर्देश पर पुलिसिया वर्दी में सरकार के भ्रष्ट गुंडों ने जमकर अत्याचार किया। यहां तक कि महिलाओं और बच्चों को भी नहीं छोड़ा। उनपर लाठियां बरसाई। ऑसू गैस के गोले छोड़े गए। आखिर क्यों
क्या आप जानते है मात्र एक चैनल पर सरकार खुद के विज्ञापन का कितना खर्चा करती है ?

विज्ञापन दर -
एनडीटीवी - प्रति 10 सेकेंड का रु॰ 3,810/- (साधारण दिन)
आजतक - प्रति 10 सेकेंड का रु॰ 3,720/- (साधारण दिन)
स्टार न्यूज़ - प्रति 10 सेकेंड का रु॰ 2,490/- (साधारण दिन)
IBN7 - प्रति 10 सेकेंड का रु॰ 2,250/- (साधारण दिन)

भारत निर्माण विज्ञापन
समय = 90 क्षण (सेकेंड)
प्रतिदिन (average - slots / day) - 10 प्रतिदिन (min.)

हर विज्ञापन की अनुमानित लागत -
90 X 2500/- = 2,25,000

प्रति चैनल पर प्रतिदिन विज्ञापन पर अनुमानित खर्चा
2,25,000.00 x 10 = 22,50,000.00

यह पैसा सरकार कॉंग्रेस का नहीं मेहनत लोगो द्वारा भरे गए टेक्स का पैसा है
आप टेक्स भरते है क्या इन विज्ञापनों के लिए ?

अब समझ लीजिये की चैनल क्यूँ कोंग्रेसियों के तलवे चाटते है !
चैनल किसी बॉलीवुड भांड की हरामखोरी का भी स्टिंग नहीं कराते क्यूँ की उनसे उन्हें कमाई होती है, अब प्रश्न है चैनलों को स्वामी रामदेवजी से क्या कमाई है ? कुछ नहीं

जागो भारतीयो जागो ......

*यह आकड़ें विभिन्न समाचार चैनलों की विज्ञापन कीमतों और सरकार द्वारा बुक किए गए विज्ञापनो के आकडे है

1 टिप्पणी :