हिंदी शोध संसार

सोमवार, 12 अप्रैल 2010

नानाजी देशमुख पर “भारतीय पक्ष” ने विशेषांक निकाला

NANAJI, AS I KNOW HIM लेखक-ए गुरूमूर्ति, अनुवादक- सत्यजीत प्रकाश
Nanaji’, which is how Nana Deshmukh was known in the political and social circles he dominated for almost six decades, is no more. Many, who were inspired by him in politics and outside, saw and knew him as a towering idealist; his admirers and friends experienced and rated him as a great political strategist. Joining the RSS at a young age and becoming its pracharak (full-time volunteer), he was undoubtedly a great organiser. He had intimate friends in high places everywhere.
He was accepted from a very young age beyond his organisational fraternity. He was equally at ease with both the noble Bhoodan movement of Vinobha Bhave and the gutter politics of Delhi. He had friends even in the garrisons of his adversaries. When Jawaharlal Nehru had banned the RSS in 1948, Nanaji Deshmukh, like many RSS workers, began organising the underground movement. From where? Believe it or not, from the house of Rafi Ahmed Kidwai, a minister in Pandit Nehru’s government. It was public knowledge that Nehru regarded RSS as his arch enemy and had even declared that he would not give an inch in India for the Bhagwa (the flag of the RSS) to fly. Still Kidwai, a great friend of Nehru and a minister in his cabinet, had no issues keeping Nanaji in his house and more -allowing him to organise underground activities. This speaks of the magnetic personality of the young Nanaji, who must then have been in his twenties!
My association with Nanaji Deshmukh started with my friendship with Ramnath Goenka. Ramnathji and Nanaji were not only great friends, they both thought and felt similarly about the country. The mutual trust and admiration that they had was rooted wholly in their love of the motherland, totally devoid of any kind of personal interest. The Nanaji-Ramnathji combine had no goal other than what they thought was the nation’s good. It was the Ramnathji-Nanaji duo that persuaded Jayaprakash Narayan to agree to lead the Bihar movement in 1974.
An incredible incident made Jayaprakash Narayan agree to the plea of Nanaji and Ramnathji to lead the movement against Indira Gandhi. I came to know of this in late 1980s, when at a dinner in the Express Towers in Bombay I asked Nanaji and Ramnathji how they brought JP into the movement. Nanaji described the thrilling and unbelievable episode. A historic meeting of Ramnathji, Nanaji, Achyut Patwardhan, the hero of the 1942 underground movement and Ramdhari Singh Dinkar, a great Hindi poet, took place sometime in 1973 in The Indian Express Guest House in Bangalore. The four of them began insisting that JP should lead the movement as Indira Gandhi had become highly autocratic and had begun destroying the institutional framework of democracy, including the judiciary and bureaucracy.
Incidentally, Dinkar was one of the greatest friends of the Nehru family and particularly of Indira Gandhi herself, but that did not detract him from doing what he thought was his duty to the nation. JP was hesitant mainly because of his health. He was a diabetic and had acute prostrate gland problem. He said that he would not be able to live for long and his health did not permit him to undertake such an arduous task. Ramnathji assured him that he would have his prostrate operation done in Vellore, which he eventually got done later. But JP could still not make up his mind. At that point, Ramnathji, suggested that all of them should go to Tirupati, have darshan and prayers and from there, go to Madras as it was known then, and continue the discussions. And they all left for Tirupati.
During the darshan at Tirupati, Ramdhari Singh Dinkar openly prayed to Lord Balaji, to the hearing of JP and the others, that whatever remaining years of life Dinkar had, the Lord should give them to JP to help him serve the cause of the motherland. And they all returned to Madras and to Ramnathji’s house in the Express Estates in Mount Road where the office of The Indian Express was also situated. Within hours, Ramdhari Singh Dinkar fell on the lap of Ramnath Goenka and died-yes he died when JP, Nanaji and Achyut Patwardhan were around. It was clear that Lord Balaji had answered Dinkar’s prayers. JP’s decision to lead the movement came in no time. Despite my several requests Nanaji had refused to write about it in The Indian Express. When I asked him how will the people of India know about it, he said that he had written it in his diary and he would like it to be known after his death. Now that he is no more, I felt free to write about it.
The rest is known history. After his prostrate operation JP began to lead one of the biggest mass movements against corruption in free India and that led to the imposition of the infamous Emergency on India, arrest of all national opposition leaders and the ban on the RSS. That was the best period in the life of Nanaji. He was one of the initiators of the underground movement that finally exploded as the Janata Wave when in 1977 lndira Gandhi, with a view to securing a mandate for her autocracy declared elections to Parliament, not knowing that the underground movement had generated a political tornado against her. Nanaji was the architect of the Janata Party. He contested elections for the first time and won. But he refused to join the ministry.
Later, when the Janata Party split and the Bharatiya Janata Party was formed in 1980, Nanaji announced that he would like to retire from active politics as he was attaining the age of 65. A new role-that of social worker -to lift moral and spiritual values and to promote economic and social wellbeing of the distanced people awaited him. He started his work first in the most backward districts of Gonda in UP and next in the equally drought-prone and poverty-ridden Bead district in Maharashtra and finally settled to do a more comprehensive work of socio-economic progress with moral values covering some 500 villages in Chitrakoot district. The then-president, Dr Abdul Kalam visited Nanaji’s Chitrakoot project and praised it as the most suitable to India, noting that almost 80 villages in the district had become litigation-free! That was his final karma bhoomi, even though the whole country was his karma bhoomi.
He once told me that when he was a child he had nothing to eat for many days, But that did not turn him into a Naxalite. But his introduction to the RSS at the right age, and association with the right persons, had turned him into a great nationalist who lived for his motherland’s glory and nothing else.
नानाजी अब हमारे बीच नहीं रहे. नानाजी देशमुख, जो करीब छह दशकों तक राजनीतिक और सामाजिक पटल पर देदीप्तिमान नक्षत्र की तरह चमकते रहे, नानाजी के नाम से जाने जाते हैं. राजनीति और राजनीति से बाहर, जो लोग उनसे प्रभावित और प्रेरित थे, उन्हें तक महान आदर्शवादी के रूप में जानते थे. उनके प्रशंसक और मित्र उन्हें एक महान राजनीतिक रणनीतिकार मानते थे. अल्पायु में ही आरएसएस में शामिल होने वाले और संघ के पूर्णकालिक प्रचारक बनने वाले नानाजी निस्संदेह एक महान संगठनकर्ता थे. हर जगह उच्च पदों पर उनके होते थे. वे बचपन से ही अपने सांगठनिक कौशल के लिए जाने जाते थे. चाहे विनोवा भावे का भूदान आंदोलन हो या दिल्ली का राजनीतिक गलियारा नानाजी हर जगह समान रूप से सहजता महसूस करते थे. उनके विरोधी खेमों में भी उनके दोस्त होते थे. 1948 में जब जवाहरलाल नेहरू ने आरएसएस पर प्रतिबंध लगा दिया था, आरएसएसस के अन्य कार्यकर्ताओं की तरह नानाजी भी भूमिगत रहकर अपने संगठन के आंदोलन को जारी रखा. लेकिन उस दौरान वो कहां थे-
मानिए या नहीं, वो नेहरू सरकार में एक मंत्री रफी अहमद किदवई के घर में रहकर अपनी गतिविधियां चलाते थे
सबको मालूम है कि नेहरू आरएसएस को पैदाईशी दुश्मन मानते थे. उन्होंने घोषणा कर रखी थी कि आरएसएस के भगवा ध्वज को फहराने के लिए वह भारत में एक इंच भी भूमि(सूई की नोक बराबर?) नहीं देंगे. नेहरू के विश्वस्त दोस्त और उनके कैबिनेट में मंत्री किदवई को नानाजी को अपने घर में रखने और भूमिगत होकर आरएसएस की गतिविधियां चलाने देने में कोई आपत्ति नहीं थी. यह घटना स्पष्ट करता है कि युवा नानाजी के व्यक्तित्व में कैसा चुंबकत्व था.
रामनाथ गोयंका से मेरी मित्रता के साथ ही नानाजी देशमुख के साथ मेरा जुड़ाव शुरू होता है. रामनाथ गोयंका और नानाजी ना सिर्फ अच्छे दोस्त थे, बल्कि देश के बारे में दोंनों के विचार और सोच एक जैसे थे. दोनों के बीच पारस्परिक विश्वास और सम्मान किसी भी प्रकार के निजी हितों से परे, पूरी तरह से मातृभूमि के प्रति उनके प्रेम से जुड़े हुए थे. राष्ट्र की भलाई के सिवा उन दोनों के मन में कोई दूसरा विचार नहीं था. गोयंका ने दी इंडियन एक्सप्रेस को न सिर्फ एक समाचार पत्र, देश के लिए काम करने वाली  सभी राष्ट्रवादी शक्तियों की सक्रिय साझेदारी,  राजनीतिक और सामाजिक विमर्श का एजेंडा तय करने का माध्यम बनाया. रामनाथ गायंका ने
ना हीं रामनाथ गोयंका जी और ना ही नानाजी जानते थे कि डर किस चिड़िया का नाम है. इन दोनों महापुरुषों ने अनायास ही हजारों लोगों, पत्रकारों के दिलों में सच कहने और लिखने का साहस भर दिया.
वो रामनाथ जी और नानाजी ही थे, जिन्होंने लोकनायक जयप्रकाश नारायण को  1974 में बिहार के छात्र आंदोलन का नेतृत्व करने के लिए राजी किया, इसने देश के राजनीतिक परिदृश्य को बदल दिया. बिहार का छात्र आंदोलन स्वतंत्र भारत के सबसे बड़े आंदोलनों में से था.

एक अविश्वनीय घटना जिसने गोयंकाजी और नानाजी की अपील पर तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की निरंकुश सत्ता के खिलाफ विद्रोह का नेतृत्व करने के लिए जयप्रकाश नारायण को राजी कर लिया.   इस घटना के बारे में मुझे जानकारी, 1980 के अंत में मिली, जब मैंने मुंबई के इंडियन एक्सप्रेस टावर में नानाजी और रामनाथजी से पूछा कि उन्होंने जयप्रकाश नारायण को आंदोलन के लिए कैसे राजी किया. तब नानाजी वो रोमांचकारी और अविश्वनीय घटना कह सुनाई.
बात, 1973 की है. स्थान था बैंगलोर स्थित इंडियन एक्सप्रेस का गेस्ट हाउस(अतिथि गृह). इस ऐतिहासिक बैठक में रामनाथ गोयंका, नानाजी देशमुख, 1942 के भूमिगत आंदोलन के नायक अच्युत पट्टवर्द्धन और राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर शामिल थे. चारों इस बात बात पर जोर दे रहे थे कि इंदिरा गांधी की निरंकुश सत्ता के खिलाफ विद्रोह की अगुवाई जयप्रकाश को करनी चाहिए, क्योंकि इंदिरा गांधी बहुत ही निरंकुश हो चुकी थी, उन्होंने न्यायपालिका और नौकरशाही सहित लोकतंत्र के संस्थागत ढांचे को ध्वस्त करना शुरू कर दिया था. यहां एक बात ये भी सच थी कि राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर जवाहरलाल नेहरू को सबसे प्रिय दोस्तों में से एक थे और साखकर इंदिरा गांधी से उनके बहुत अच्छे संबंध थे. मगर ये दोस्ती राष्ट्र के प्रति कर्तव्यों के निर्वहन की राह में दिनकर जी के लिए कभी रोड़ा नहीं बनी. जयप्रकाश नारायण मुख्य रूप से अपने खराब स्वास्थ्य के चलते विद्रोह का नेतृत्व करने में हिचकते थे. वो मधुमेह के रोगी थे और साथ ही उन्हें पौरूषग्रंथि संबंधी जटिलताएं भी थी. जयप्रकाश नारायण ने कहा कि वे लंबे समय तक जीवित नहीं रहेंगे और उनका स्वास्थ्य इस महान कार्य को अपने हाथ में लेने की अनुमति नहीं दे रहा है. रामनाथ जी ने उन्हें भरोसा दिलाया कि वे उनके पौरूषग्रंथि का भेल्लोर में ऑपरेशन कराकर समस्या को दूर करा देंगें और बाद में उन्होंने ऐसा किया भी. लेकिन जयप्रकाश नारायण तब भी तैयार नहीं हुए.
इस स्थिति में, रामनाथ गोयंका जी, एक महान आस्थावादी होने के कारण, सभी लोगों को तिरूपति चलने की सलाह दी. गोयंका ने कहा कि वे इसके बाद मद्रास चलेंगे जहां आगे विचार विमर्श होगा. सभी तिरूपति की ओर रवाना हो गए.
आगे पढ़ेंगे, जेपी आंदोलन के लिए राष्ट्रकवि रामधारी सिंह ने कैसे बलिदान दिया-  
पिछले अंक में हम बात कर रहे थे कि रामनाथ गोयंका जी, अच्युत पट्टवर्द्धनजी, जयप्रकाश नारायणजी, नानाजी देशमुख और राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर तिरूपति दर्शन के लिए रवाना हुए. आगे-
रामधारी सिंह दिनकर ने सबकी उपस्थिति में भगवान तिरूपति के सामने प्रार्थना की(जयप्रकाश और दूसरे लोगों को सुनाकर)-
हे भगवान तिरुपति, हमारा शेष जीवन लोकनायक जयप्रकाश नारायण को अर्पित कर दो, ताकि वो मातृभूमि की सेवा कर सकें.  
भगवान तिरुपति का दर्शन कर सभी मद्रास पहुंचे. माउंट रोड, जहां इंडियन एक्सप्रेस का ऑफिस था, रामनाथजी के घर पहुंचते ही दिनकर जी रामनाथजी की गोद में गिर गए और कुछ ही पलों में उन्होंने आखिरी सांस ली- उस समय वहां, जयप्रकाश नारायण, नानाजी देशमुख और अच्युत पट्टवर्धन उपस्थित थे. साफ था कि दिनकरजी की प्रार्थना का भगवान तिरूपति बालाजी ने उत्तर दिया. दिनकरजी के निधन के तुरंत बाद जयप्रकाश नारायण ने बिहार के छात्र आंदोलन का नेतृत्व करने का फैसला लिया. इसबार जयप्रकाश नारायण ने तनिक देरी नहीं की. मेरे बार-बार के अनुरोध के बावजूद नानाजी ने इस घटना के बारे में इंडियन एक्सप्रेस में लिखने से मना कर दिया. जब मैने पूछा कि लोग इस घटना के बारे में कैसे जानेंगे तो उन्होंने कहा कि
मैंने सारी बात अपनी डायरी में लिख दी है, मेरी मृत्यु के बाद लोग जान जाएंगे. अब नानाजी देशमुख इस दुनिया में नहीं है, इसलिए मैं उन बातों को लिखने में स्वयं को स्वतंत्र पा रहा हूं.
बाकी तो सबको मालूम है. पौरूषग्रंथि के ऑपरेशन के बाद लोकनायक जयप्रकाश नारायण ने स्वतंत्र भारत के सबसे बड़े जन आंदोलन का नेतृत्व किया. यह नेतृत्व भ्रष्टाचार के खिलाफ था. इस आंदोलन के कारण इंदिरा गांधी ने देश में आपातकाल लगा दिया. आरएसएस पर प्रतिबंध लगा दिया और सभी विरोधी नेताओं को जेल में ढूंस दिया गया. यह समय नानाजी के जीवन का सर्वोत्तम काल था. इस दौरान नानाजी देशमुख ने भूमिगत आंदोलन चलाया. नानाजी के आंदोलन ने 1977 में देश में लोकलहर खड़ा कर दिया. इंदिरा गांधी ने अपनी निरंकुशता को जारी रखने के लिए जनादेश का मार्ग चुना. लोकसभा चुनाव की घोषणा कर दी गई. नानाजी के भूमिगत आंदोलन ने वो लोकलहर पैदा कर दी कि इंदिरा गांधी की खुफिया एजेंसियां भी चकमा खा गई. नानाजी देशमुख जनता पार्टी के निर्माता थे. वो पहलीबार चुनाव लड़े और जीत हासिल की, लेकिन जब मोरारजी देसाई ने उन्हें मंत्रिमंडल में शामिल होने के लिए जोर डाला, उन्होंने ऐसा करने से इनकार कर दिया.
बाद में जब जनता पार्टी में विभाजन हुआ और 1980 में भारतीय जनता पार्टी बनी, नानाजी ने सक्रिय राजनीति से संन्यास लेने की घोषणा कर दी. उन्होंने घोषणा की कि वो 65 साल के हो गए हैं इसलिए सक्रिय राजनीति से संन्यास लेना पसंद करेंगे. अब नानाजी एक नई भूमिका में थे- दबे-कुचले लोगों की सामाजिक-आर्थिक बेहतरी को सुनिश्चित करने और उनकी नैतिकता और आध्यात्मिकता को संबल प्रदान करने में वे जुट गए. उन्होंने उत्तरप्रदेश के सबसे पिछड़े जिले चित्रकूट में अपना सेवा प्रकल्प शुरू किया, इसके बाद महाराष्ट्र के सूखा-प्रभावित और गरीब जिले बीड़ में सेवा प्रकल्प चलाया. अंतत: करीब पांच सौ गांवों में सामाजिक-आर्थिक उत्थान और प्रगति का व्यापक कार्य किया. तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने नानाजी के चित्रकूट प्रकल्प का स्वयं निरीक्षण किया. कलाम ने नानाजी के कार्यों की भूरि-भूरि प्रशंसा की. उन्होंने कहा कि कि जिले के अस्सी गांव मुकदमे मुक्त हैं. 
चित्रकूट में मैंने नानाजी देशमुख और दीनदयाल उपाध्याय के उनके साथियों से मुलाकात की. दीन दयाल शोध संस्थान ग्रामीण विकास के प्रारूप को लागू करने वाला अनुपम संस्थान है यह प्रारूप भारत के लिए उपयुक्त है. विकास कार्यों से अलग दीनदयाल उपाध्याय संस्थान विवाद-मुक्त समाज की स्थापना में मदद करता है. मैं समझता हूं कि चित्रकूट के आसपास अस्सी गांव मुकदमा-मुक्त है. गांव के लोगों ने सर्वसम्मति से फैसला किया कि किसी विवाद का हल करने के लिए वे वे अदालत नहीं जाएंगे. तय हुआ कि विवाद आपसी सहमति से सुलझा लिए जाएंगे. नानाजी देशमुख के मुताबिक अगर लोग लड़ते झगड़ते रहेंगे तो विकास के लिए समय ही नहीं बचेगा." कलाम के मुताबिक, विकास के इस अनुपम प्रारूप को सामाजिक संगठनों, न्यायिक संगठनों और सरकार के माध्यम से देश के विभिन्न भागों में फैलाया जा सकता है. शोषितों और दलितों के उत्थान के लिए समर्पित नानाजी की प्रशंसा करते हुए कलाम ने कहा कि नानाजी चित्रकूट में जो कर रहे हैं वो अन्य लोगों के लिए आंखें खोलने वाला होना चाहिए.
वैसे तो पूरा देश ही उनकी कर्मभूमि थी, लेकिन अंतिम कर्मभूमि के रूप में उन्होंने चित्रकूट को नया जीवन दिया. 
प्रसिद्ध स्वयंसेवी और आधुनिक युग के महापुरूष नानाजी देशमुख पर भारतीय पक्ष ने इस महीने विशेषांक निकाला है, यह पठनीय होने के साथ साथ संग्रहणीय भी है.

2 टिप्‍पणियां :

  1. सत्यजीत जी, आपने बहुत ही सराहनीय कार्य किया है. मेरी ईश्वर से प्रार्थना है कि दया करके नानाजी जैसे और सपूत भारत माता की झोली में डाले. हम सभी को अपने राष्ट्र की उन्नति के यज्ञ में समिधा की भांति होम हो जाना चाहिए. जीवन का अंतिम सत्य तो मृत्यु ही है परन्तु अंतिम समय हमारे मन में यह संतोष हो कि हमने अपनी जन्मदायिनी भारत माता का ऋण चुकाने का कुछ तो उद्योग किया. भारत माता की जय!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही बढ़िया...
    नमन नाना जी को, दिनकर जी, गोयंका जी और जयप्रकाश जी...

    उत्तर देंहटाएं